Scholarships after 12th: क्लास 12 के बाद मिलती हैं ये 5 स्कॉलरशिप, कहां-कैसे करें अप्लाई

हाइलाइट्स:

  • यहां जानें स्कॉलरशिप कैसे लें?
  • कौन-सी हैं टॉप-5 स्कॉलरशिप?
  • जानें कब और कैसे कर सकते हैं अप्लाई

Scholarships For College Students: अक्सर ऐसा होता कि कमजोर आर्थिक स्थिति कई छात्रों के भविष्य की राह में रोड़ा बन जाती है। ऐसे ही छात्रों की मदद के लिए सरकार कुछ स्कॉलरशिप देती है। जो मेधावी और आर्थिक स्तर पर कमजोर छात्रों को उनकी आगे की पढ़ाई करने में मदद करती हैं। भारत सरकार और अलग-अलग राज्यों की सरकार 12वीं के बाद अलग-अलग स्कॉलरशिप देती हैं। इस आर्टिकल के जरिए आप पांच अहम स्कॉलरशिप के बारे में जान सकते हैं

CSSS- सेंट्रल सेक्टर स्कीम ऑफ स्कॉलरशिप फॉर कॉलेज एंड यूनिवर्सिटी स्टूडेंट्स
हर साल ये स्कॉलरशिप 82,000 नए स्टूडेंट्स को दी जाती है। इनमें आधी लड़कियां (41,000) और आधे लड़के (41,000) होते हैं। जैसा नाम से समझ आ रहा है, ये स्कॉलरशिप कॉलेज और यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट्स के लिए है। इसका उद्देश्य पढ़ाई के दौरान होशियार छात्रों की दैनिक जरूरतों को पूरा करने के लिए मदद करना है।

कैसे मिलेगी स्कॉलरशिप?
कुल पास हुए छात्रों में से 80 पर्सेंटाइल से ऊपर जो लड़के-लड़कियां होंगे उन्हें इसका फायदा मिलेगा।
3:2:1 के अनुपात में स्कॉलरशिप दी जाती है। 3-विज्ञान: 2-वाणिज्य (कॉमर्स): 1-मानविकी (ह्यूमैनिटीज)

योग्यता कीशर्तें:

  • सफल उम्मीदवारों के अंक 80 पर्सेंटाइल से ऊपर होने चाहिए
  • बारहवीं कक्षा में एक विशेष बोर्ड परीक्षा से स्ट्रीम नियमित पाठ्यक्रम का अनुसरण प्रति वर्ष 6 लाख रुपये से कम की पारिवारिक आय वाले कोई अन्य छात्रवृत्ति प्राप्त नहीं करना
  • परिवार की सालाना आय 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: Study Abroad: विदेश में करनी है पढ़ाई? इन 5 तरीकों से जुटा सकते हैं आर्थिक मदद

चुने गए तो कितनीस्कॉलरशिप मिलेगी?

  • स्नातक यानी ग्रेजुएशन के दौरान शुरुआती 3 सालों में हर साल 10,000 रुपए दिए जाएंगे।
  • पोस्ट ग्रेजुएशन के दौरान 20 हजार रुपये हर साल दिए जाते हैं।

https://scholarships.gov.in/public/schemeGuidelines/Guidelines_DOHE_CSSS.pdf

KVPY- किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना
इस योजना का उद्देश्य विज्ञान के क्षेत्र में छात्रों को आगे बढ़ने का मौका देना है। रिसर्च के लिए काबिल छात्रों की पहचान और उन्हें इस क्षेत्र में करियर बनाने के लिए मदद करना इसका लक्ष्य है। विज्ञान और तकनीकी विभाग की ओर से फेलोशिप के जरिए प्रोत्साहन दिया जाता है। इस स्कॉलरशिप के लिए एक परीक्षा देनी होती है। जो छात्र KVPY परीक्षा पास कर लेते हैं उन्हें रिसर्च करने के लिए सरकार की ओर से अनुदान दिया जाता है।

देश के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों में से एक IISc (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस) इसकी परीक्षा करवाता है। परीक्षा में बैठने के लिए ही 12वीं में 75 फीसदी मार्क्स आना जरूरी होता है। इसकी परीक्षा में एप्टीट्यूड (Aptitude) टेस्ट लिया जाता है। टेस्ट के आधार पर शॉर्टलिस्ट किए गए उम्मीदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। दोनों ही परीक्षाओं के आधार पर फैसला होता है कि किसे स्कॉलरशिप दी जाएगी।

इस योजना के जरिए देश में अनुसंधान यानी रिसर्च और विकास से जुड़े कामों के लिए सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक प्रतिभा का विकास सुनिश्चित करना है। किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना के तहत चुने जाने वाले स्टूडेंट्स को पीएचडी से पहले तक स्कॉलरशिप दी जाती है।
इसे भी पढ़ें: Top Courses In Abroad: करना चाहते हैं विदेश में पढ़ाई? जानें इन टॉप कोर्सेस के बारे में

http://www.kvpy.iisc.ernet.in/main/index.htm

PMMS- प्रधानमंत्री स्कॉलरशिप स्कीम
प्रधानमंत्री छात्रवृत्ति योजना सरकार की स्कॉलरशिप स्‍कीम है। इसका फायदा पूर्व सेनानियों और पूर्व भारतीय तटरक्षक बल के जवानों के बच्‍चों और उनकी विधवा पत्नियों को मिलता है। हालांकि आम लोग या पैरा मिलिट्री फोर्सेस के जवानों के परिवार को उसका फायदा नहीं मिलता। इसका मकसद उच्‍च तकनीकी और पेशेवरीय शिक्षा में उन्‍हें बढ़ावा देना है।
https://ksb.gov.in/scholarships-available.htm

योग्यता:

  • इस छात्रवृत्ति के लिए 12वीं, डिप्लोमा या स्नातक (ग्रेजुएशन) में कम से कम 60% अंक प्राप्त करने होंगे।
  • 18 से 25 वर्ष के बीच आयु वर्ग के आवेदक, इस छात्रवृत्ति के लिए आवेदन करने के लिए योग्य हैं।
  • फर्स्ट ईयर में एडमिशन लेने वाले उम्मीदवार इसका फायदा ले सकते हैं।

https://scholarships.gov.in/public/schemeGuidelines/MoHA-(WARB)-RevisedGuidelines_PMSS(MHA).pdf

AICTE- प्रगति स्कॉलरशिप स्कीम
मानव संसाधन एवं विकास मंत्रालय ये स्कीम चलाता है। 12वीं पास होने के बाद 5000 लड़कियों को ये स्कॉलरशिप दी जाती है। इनमें से 2000 डिग्री हैं, जबकि 2000 लड़कियां डिप्लोमा के क्षेत्र की होती हैं। 1000 स्कॉलरशिप दिव्यांग छात्राओं के लिए रिजर्व होती है। लड़कियों को शिक्षा के माध्यम से सशक्त करना ही इसका उद्देश्य है। चुनी गई छात्राओं को सालाना 50 हजार रुपये की स्कॉलरशिप के साथ अन्य लाभ भी मिलते हैं।
इसे भी पढ़ें: Study Abroad: विदेश में पढ़ाई के लिए चुनना है बेस्ट कॉलेज? इन बातों का रखें खास ध्यान

कैसेमिलेगी स्कॉलरशिप?

  • मेरिट के आधार पर ये स्कॉलरशिप दी जाती है। AICTE से मान्यता प्राप्त संस्थान में दाखिला लेना होगा।
  • परिवार की वार्षिक आय 8 लाख से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।
  • इस लिंक के जरिए आपको अधिक जानकारी मिलेगी – https://www.aicte-pragati-saksham-gov.in/

https://www.aicte-pragati-saksham-gov.in/resources/combine%20pragati%20&%20saksham%20(1).pdf

MGNF – महात्मा गाांधी नेशनल फैलोशिप
IIMs की ओर से इसे आयोजित किया जाता है। ये पब्लिक पॉलिसी और मैनेजमेंट से जुड़ा एक सर्टिफिकेट प्रोग्राम है, जिसमें IIM की फैकल्टी बिजनेस और इकोनॉमिक्स से जुड़ी जानकारियां मिलती हैं। इसके साथ ही चुने गए लोगों को फील्ड पर भेजा जाता है, जिससे वो रोजगार बढ़ाने के लिए प्लान तैयार करते हैं। चुने गए फैलो ग्रामीण इलाके के लोगों का जीवन बेहतर करने के लिए भी प्रयास करते हैं।

  • दो साल की महात्मा गाांधी नेशनल फेलोशिप में पहले साल 50 हजार रुपये महीने और दूसरे वर्ष 60 हजार रुपये महीने मिलेंगे।
  • फैलोशिप के लिए IIM बेंगलुरु की वेबसाइट iimb.ac.in पर जाकर रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।
RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News