PGI 2019-20: केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने जारी किया परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स; पंजाब, चंडीगढ़, तमिलनाडु को मिले A ++ ग्रेड

  • Hindi News
  • Career
  • PGI 2019 20| Union Education Ministry Released The Performance Grading Index; Punjab, Chandigarh, Tamil Nadu, Get A++ Grade

15 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने परफॉर्मेंस ग्रेडिंग इंडेक्स (पीजीआई) 2019-20 का तीसरा संस्करण जारी कर दिया है। इसमें 70 मापदंडों के एक सेट के तहत राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को ग्रेड दिए जाते हैं।

पीजीआई की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्कूली शिक्षा में अभूतवपूर्व बदलाव लाने के विजन के तहत की गई थी। यह इंडेक्स पहली बार 2019 में जारी किया गया था, इसके लिए 2017-18 में राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों द्वारा की गई पहल को ध्यान में रखा गया था।

पिछले वर्षों की तुलना में अधिकांश राज्यों की ग्रेड में सुधार

जारी इंडेक्स में पंजाब, चंडीगढ़, तमिलनाडु, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह और केरल को A ++ ग्रेड दिया गया है। इसके अलावा ज्यादातर राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों ने पिछले सालों की तुलना में अपने ग्रेड में सुधार किया है।

अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, पुडुचेरी, पंजाब और तमिलनाडु ने पीजीआई स्कोर में 10% यानी 100 या ज्यादा अंकों का सुधार किया है। जबकि अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, लक्षद्वीप और पंजाब ने एक्सेस के मामले में 10% (8 अंक) या उससे ज्यादा का सुधार दिखाया है।

ओडिशा ने इंफ्रास्ट्रक्चर में किया 20% का सुधार

13 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाओं के मामले में 15 अंक या उससे अधिक का सुधार दिखाया है। वहीं, अंडमान-निकोबार द्वीप समूह और ओडिशा ने 20% या उससे ज्यादा का सुधार दिखाया है।

अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर और ओडिशा ने इक्विलिटी की दिशा में 10% से ज्यादा का सुधार किया है। इसके अलावा 19 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने गवर्नेंस प्रोसेस के मामले में 36 अंक से ज्यादा का सुधार किया है। इसके् अलावा अंडमान-निकोबार द्वीप समूह, आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, पंजाब, राजस्थान और पश्चिम बंगाल ने करीब 20% यानी 72 अंक या इससे ज्यादा सुधार किया है।

इंडेक्स से कमी का पता लगाने में मिलती है मदद

यह इंडेक्स विभिन्न पहलों के तहत राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को शिक्षा क्षेत्र में वांछित परिणाम प्राप्त करने के लिए प्रेरित करता है। इसके अलावा यह ग्रेड सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेश की शिक्षा के क्षेत्र में कमियों को पता कर के उनके ऊपर काम करने में भी मदद करता है।

राज्य और प्राप्त ग्रेड की लिस्ट

ग्रेड राज्य
ग्रेड I++ पंजाब, चंडीगढ़, तमिलनाडु, अंडमान- निकोबार द्वीप समूह और केरल
ग्रेड I+ गुजरात, हरियाणा, महाराष्ट्र, एनसीटी-दिल्ली, पुदुचेरी, राजस्थान, दादरा नगर हवेली
ग्रेड I आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, हिमाचल प्रदेश, कर्नाटक, ओडिशा, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश और दमन व दीव
ग्रेड II गोवा, उत्तराखंड, झारखंड, लक्षद्वीप, मणिपुर, सिक्किम, तेलंगाना, जम्मू और कश्मीर
ग्रेड III असम, बिहार, मध्य प्रदेश और मिजोरम
ग्रेड IV अरुणाचल प्रदेश, छत्तीसगढ़ और नागालैंड
ग्रेड V मेघालय
ग्रेड VI
ग्रेड VII लद्दाख

मध्य प्रदेश व छत्तीसगढ़ को मिले कम स्कोर

सुधार राज्य
20 फीसदी अंडमान निकोबार द्वीप समूह, पंजाब और अरुणाचल
10-20 फीसदी आंध्र प्रदेश, मणिपुर, त्रिपुरा, उत्तर प्रदेश, दमन व दीव, दादरा व नगर हवेली, पश्चिम बंगाल, ओडिशा, राजस्थान, हरियाणा, पुडुचेरी और तमिलनाडु
5-10 फीसदी मेघालय, नागालैंड, बिहार, उत्तराखंड, लक्षद्वीप, जम्मू कश्मीर, कर्नाटक, हिमाचल प्रदेश, महाराष्ट्र और एनसीटी दिल्ली
0.1-5 फीसदी मिजोरम, असम, सिक्किम, तेलंगाना, गोवा, झारखंड, गुजरात, केरल और चंडीगढ़

खबरें और भी हैं…
RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News