NEET 2021 प्रिपरेशन टिप्स: मेडिकल एंट्रेंस एग्जाम की कर रहे हैं तैयारी, तो रिजल्ट के प्रेशर और स्ट्रेस को ऐसे करें हैंडल

  • Hindi News
  • Career
  • NEET 2021| If You Are Preparing For Medical Entrance Exam, Then Handle The Pressure And Stress Of The Result In These Way

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

मेडिकल कोर्सेस में एडमिशन के होने वाले नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेंस टेस्ट (NEET) हाई कॉम्पिटिशन की वजह से काफी मुश्किल एग्जाम माना जाता है। NEET की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स अक्सर अपने रिजल्ट को लेकर स्ट्रेस और प्रेशर में रहते हैं। वहीं, परिवार का दबाव स्टूडेंट्स का आत्मविश्वास कम करता है और घबराहट बढ़ा देता है। ऐसे में जानते हैं एग्जाम के डर और चिंता को कम करने में मददगार कुछ टिप्स के बारे में-

जल्दी रिवीजन करना शुरू करें

अक्सर स्टूडेंट्स 17 घंटे के लिए अपना रिवीजन शेड्यूल करते हैं और समय कम होने की वजह से वे कुछ टॉपिक्स को मिस कर देते हैं। यह स्टूडेंट्स पर अधिक दबाव बनाता है और उन टॉपिक्स का एक भी सवाल एग्जाम हॉल में स्टूडेंट्स के दिमाग पर काफी असर करेगा। इसलिए, एग्जाम से 2-3 महीने पहले रिवीजन शेड्यूल करना हमेशा बेहतर होता है और एग्जाम से पहले वाला एक महीना रिलैक्स करने के लिए रखा जाना चाहिए।

याद करना, प्रैक्टिस और टेस्ट, इन तीनों को फॉलो करें

नीट की तैयारी के लिए लर्न-प्रैक्टिस-टेस्ट सबसे अच्छा तरीका है। कई स्टूडेंट्स इनमें से किसी एक स्टेप को छोड़ देते हैं और दबाव महसूस करते हैं। प्रैक्टिस करते समय स्पीड और करेक्टनेस जरूरी पार्ट्स हैं। इसलिए, हमेशा अपनी सीखने की प्रक्रिया में स्पीड और करेक्टनेस पर ध्यान दें।

अपना खुद का टाइम टेबल बनाएं

हर व्यक्ति अलग तरह से सोचता है और अलग तरह से पढ़ता है। फिर कैसे एक जैसा ही टाइम टेबल हर किसी को सूट कर सकता है? किसी दूसरे के बनाए हुए टाइम टेबल को फॉलो करने के बजाय, अपने स्ट्रॉन्ग और कमजोर टॉपिक्स का विश्लेषण करें और उनके मुताबिक अपना खुद का टाइम टेबल बनाएं।

विषयों को मिलाएं

कई स्टूडेंट्स अक्सर एक ही टॉपिक पर ध्यान केंद्रित करते हैं या एक के बाद एक टॉपिक को पढ़ने के लिए शेड्यूल बनाते हैं। ऐसा करते समय, कुछ ऐसे उदाहरण भी हो सकते हैं जहां आखिर में, बाकी टॉपिक्स को छोड़ दिया जाता है और आप उन्हें याद करने से चूक सकते हैं। इसलिए, बैलेंस बनाने के लिए हर दिन हर एक टॉपिक को थोड़ा-थोड़ा समय दे।

शॉर्ट नोट्स बनाएं और अपनी गलतियों की एक लिस्ट बनाएं

अपने क्लास नोट्स के साथ, एक प्रैक्टिस करते समय जरूरी प्वॉइंट्स जैसे लिस्ट, नाम, फॉर्मुले आदि के अलग से नोट्स बनाएं। प्रैक्टिस टेस्ट की तैयारी करें और साथ ही, अपनी गलतियों को नोट करें। ये नोट्स एग्जाम हॉल में जाने से पहले या एग्जाम से एक दिन पहले रिवीजन करके जाएं। इससे आपको मदद मिलेगी।

अच्छे से सोएं

डॉक्टरों के अनुसार शरीर और दिमाग को आराम देने के लिए कम से कम 6-7 घंटे की नींद जरूरी है। इसलिए, आपको अपने टाइम टेबल में रेस्ट करना और सोने का टाइम शामिल करना चाहिए। अपने शरीर को आराम देने के लिए 1-2 घंटे की पढ़ाई के बाद कम से कम 10 मिनट का ब्रेक लेना भी जरूरी है। ब्रेक के दौरान, थोड़ी देर स्ट्रेचिंग करने की कोशिश करें और बॉडी को फिट रखने के लिए पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं। हेल्थ एक्सपर्ट्स के मुताबिक स्ट्रेचिंग से शरीर का सर्कुलेशन बेहतर होता है।

खबरें और भी हैं…
RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News