NEET 2021: नीट एग्जाम जल्द, जानिए कम समय में कैसे होगी तैयारी

NEET Preparation: नीट परीक्षा तिथि की घोषणा की जा चुकी है, जो 12 सितंबर को होगी। अब जब परीक्षा में कुछ दिनों का समय शेष है. तो छात्रों की तैयारी भी काफी जोरो शोरों से करनी पड़ रही है। नीट सबसे कठिन प्रवेश परीक्षाओं में से एक है। ऐसे में इसकी तैयारी के लिए आखिरी के तीन सप्‍ताह अत्यंत महत्वपूर्ण हो जाते है। आज जो हम आपको बताने जा रहे हैं, वह नीट की तैयारी के सबसे महत्वपूर्ण तैयारी टिप्स में से एक है अंतिम समय में अच्छी तरह से बनाया गया स्टडी रूटीन जो आपको नीट क्रैक करने में मदद करेगा।

प्रश्नों पर आधारित रिवीजन
आखरी समय में तैयारी करते समय ध्‍यान रखें कि भौतिकी या रसायनशास्त्र के विशेष चैप्टर, टॉपिक, यूनिट को रिवाइज करने के लिए, उस से रैंडम बहुवैकल्पिक प्रश्नों को चुनें और 45 मिनटों में उन्हें हल करें। रसायनशास्त्र, भौतिकी और जीवविज्ञान के सभी चैप्टर्स के रिवीजन के लिए यही रणनीति दुहराएं। इससे वास्तविक परीक्षा का माहौल बन जाएगा। नीट के लिए विषय-विशेष तैयारी करते समयए तीन घंटों को भौतिकी, रसायनशास्त्र और जीवविज्ञान के बीच बांटें और उनके बहुवैकल्पिक प्रश्नों को हल करें। यह संयोजन छात्रों को आखिरकार ठोस परिणाम देने में मदद करेगा।

कॉम्प्रिहेंसिव रीविज़न
प्रश्न आधारित रीविजन के बाद, एनसीईआरटी की संबंधित किताबों, मॉड्यूल्स और तैयारी के आरंभिक चरणों में पढ़े गए नोट्स से रिवाइज करें। महत्वपूर्ण बिन्दुओं को एक पेज के डायग्राम या नोट्स में लिख लें और जरूरत पड़े तो अंतिम सप्ताह में इन्हें नियमित रूप से देखें।
इसे भी पढ़ें:Career In Maths: मैथ्स में हैं एक्सपर्ट, तो इन 8 फील्ड में बना सकते हैं बेहतरीन करियर

टाइम के अनुसार मॉक टेस्‍ट दें
परीक्षा की समय-सीमा के अनुसार यानि दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे के भीतर ही, फुल-लेंथ मॉक टेस्ट्स देने की प्रैक्टिस करें। ऐसा करने से आपका बॉडी क्लॉक परीक्षा के दिन के समय के अनुकूल हो जाएगी और उसी के अनुसार आपकी सतर्कता एवं एकाग्रता के स्तर को बनाए रखेगी।

परफॉर्मेंस एनालिसिस
प्रत्येक मॉक टेस्ट के बाद अपने प्रदर्शन का विश्लेषण करें। कमजोर विषयों पर गौर करें और रिविजन के समय उन पर अधिक ध्यान दें। बार-बार होने वाली गलतियों जैसे कि यूनिट्स को भूल जाना आदि, पर ध्यान देना। परीक्षा से एक सप्ताह पहले, इन नोट्स को पढ़ें ताकि परीक्षा में यही गलतियां फिर से न हो जाएं।

स्टडी आवर्स
परीक्षा से पहले आखिरी के कुछ सप्‍ताह में आदर्श स्टडी रूटीन बनाने के लिए यह ध्यान में रखें कि छोटे- छोटे ब्रेक के साथ हर दिन पढ़ने के लिए 14 घंटों का समय अवश्य निकालें। लगातार पढ़ाई करने से छात्रों को अपनी अध्ययन दिनचर्या को नियमित बनाने, अनुशासनहीनता के कारण होने वाले तनाव को कम करने में मदद मिलेगी और सिर्फ एक महीने में नीट सिलेबस को दुहराने के लिए पर्याप्त समय मिल पाएगा।

समय का बंटवारा करें
पढ़ाई के लिए समय का बंटवारा करते समय ध्‍यान रखें कि, सिलेबस को नीट सैंपल पेपर प्रैक्टिस और पेपर में होने वाली गलतियों के विश्लेषण के बीच बांटें। यदि समय हो तो, आप नीट प्रश्नों की कॉन्सेप्चुअल क्लैरिटी पर भी काम कर सकते हैं।
इसे भी पढ़ें:Career Tips: बनाना चाहते हैं Software Engineering में करियर? 10वीं के बाद भी मौका, जानें कैसे

स्टडी मटेरियल
अंतिम समय में बेकार के स्टडी मटेरियल्स को हल करने का प्रयास न करें। परीक्षा की तैयारी करने के लिए मटेरियल्स की कोई सीमा नहीं है, इसलिए तैयारी के लिए बचे आखिरी दिनों में, छात्रों को सिर्फ एनसीईआरटी किताबें पढ़नी चाहिए जिससे प्रत्येक टॉपिक पर अच्छी और गहरी समझ मिलती है। इसके अलावा, वे रीविजन नोट्स और कोचिंग मॉड्यूल्स की मदद ले सकते हैं।

ध्यान भटकाने वाली वस्‍तुओं से दूरी
परीक्षा तैयारी के समय ध्‍यान रखें की आपका ध्यान भटकाने वाले तत्वों जैसे सोशल मीडिया, गेम्स आदि से दूरी बना लें। इन माध्यमों का कुछ हद तक प्रयोग मात्र रिफ्रेश्मेंट या स्ट्रेस बस्टर्स के रूप में करें। इसके अलावा, इन तत्वों को सीमित करना जितना महत्वपूर्ण है उतना ही महत्वपूर्ण है इस प्रकार के तत्वों का स्वेच्छा और खुशी के साथ प्रयोग किया जाना। आपको हल्के शारीरिक व्यायाम जैसे योग या ध्यान के लिए भी समय निकालना चाहिए ताकि आपकी थकान दूर हो सके और तरोताजा एवं शांत बने रहें।

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News