Mock Test Preparation: किसी भी एग्जाम से पहले मॉक टेस्‍ट क्‍यों जरूरी है? जानें कैसे मिलेंगे अच्छे मार्क्स

हाइलाइट्स

  • यहां जानें मॉक-टेस्ट क्यों है जरूरी
  • एग्जाम के लिए मॉक-टेस्ट कैसे होगा फायदेमंद?
  • तैयारी करने के लिए मॉक-टेस्ट है बेस्ट ऑप्शन

Mock Test Preparation: किसी भी परीक्षा से पहले छात्र पूरी मेहनत के साथ परीक्षा की तैयारी करते हैं, अधिकतर छात्र तैयारी के लिए जहां कोचिंग सेंटर में दाखिला लेते हैं, वहीं कई छात्र ऐसे भी होते हैं, जो सेल्‍फ प्रिपरेशन कर परीक्षा देना पसंद करते हैं। हालांकि आज के समय में परीक्षा से पूर्व एक तरीका जो दोनों में कॉमन है वह मॉक टेस्‍ट है। उम्‍मीदवार चाहे वह कोचिंग में तैयारी कर रहे हों या फिर सेल्‍फ स्‍टडी वह मॉक टेस्‍ट जरूर देते हैं।

परीक्षा के दबाव को दूर करता है
ऐसे बहुत से उम्‍मीदवार हैं जो ज्ञानी और प्रतिभावान हैं, लेकिन परीक्षा के समय वह इसके दबाव में पूरी तरह बिखर जाते हैं और सफलता हासिल नहीं कर पाते। इसका प्रमुख कारण होता है अभ्‍यास में कमी। एक वास्‍तविक परीक्षा जैसे पर्यावरण में अपने आप का परीक्षण व अभ्‍यास करने से आपके भीतर वा‍स्‍तविक परीक्षा के समय पड़ने वाले दबाव को कम किया जा सकता है। इसमें साथ देता है मॉक टेस्‍ट, जो आपके आत्‍मविश्‍वास को बढ़ाता है। ध्‍यान रहे कि मॉक टेस्‍ट में असली परीक्षा की तरह ही निगेटिव मार्किंग किया जाता है, इससे आप समय पर पकड़ बनाने के साथ यह भी तय कर सकते हैं कि क्‍या लिखना है और क्‍या छोड़ना है।

प्रश्‍न पत्र की सही जानकारी
स्टूडेंट्स को परीक्षा की तैयारी के लिए पेपर पैटर्न का होना बहुत आवश्यक हैं। इससे स्टूडेंट्स को प्रश्न, मार्क्स, हर सेक्शन में कितनें प्रश्न हैं और मार्किंग स्कीम क्या होती हैं की पूरी जानकारी मिल जाती है। साथ ही मॉक टेस्ट जैसे कि प्रश्‍न पत्र, सैंपल पेपर और ऑनलाइन टेस्ट सीरीज़ की मदद से स्टूडेंट्स अपनी तैयारी का पता लगा सकते है इससे उन्हें अनुमान हो जाता हैं की उन्हें परीक्षा में में सफलता पाने के लिए और कितनी तैयारी करनी होगी।
इसे भी पढ़ें:NEET 2021 Exam: नीट की है तैयारी तो अपनाएं ये टिप्स एंड ट्रिक्स

पैटर्न की समझ के साथ तेजी से सीखना
मॉक टेस्‍ट आपको तेजी से सीखने और अवधारणाओं को बेहतर ढंग से अवशोषित करने में मदद करता है। इसके अलावा आप अपनी गलतियों से भी बहुत कुछ सीखते रहते हैं। गुणवत्ता वाले मॉक टेस्‍ट के अभ्यास से आपको परीक्षा पैटर्न को बेहतर तरीके से जानने में सहायता मिलेगी। क्योंकि जब आपको परीक्षा पैटर्न की बेहतर समझ होगी तो आपको आपकी वास्तविक स्थिति भी पता चल जाएगी कि आपकी तैयारी का क्या स्तर है।

गलतियों से सीखने का मौका
सभी टॉपर्स प्रैक्टिस मॉक टेस्ट या टेस्ट सीरीज के महत्व पर सहमत हैं, क्योंकि इनका अभ्यास आपको परीक्षा में आने वाले अप्रत्याशित प्रश्नों को समझने और उन्हें हल करने की क्षमता का विकास करता है। एक सबसे महत्वपूर्ण बात यह भी है कि मॉक टेस्ट से आपको समय प्रबंधन और परीक्षा के समय के दबाव से निपटने में मदद मिलती है। ये आपको वास्तविक परीक्षा देने के दौरान संभवतरू हो सकने वाली गलतियों का एहसास करने में भी सहायता करते हैं। प्रारंभ में आप अपनी गलतियों से सीख सकते हैं किन्तु वास्तविक परीक्षा में उन्हें दोहरा नहीं सकते हैं।
इसे भी पढ़ें: Career After M.Tech: एम टेक के बाद कहां मिलते हैं जॉब ऑप्शन, अच्छा सैलरी पैकेज

उच्च अंक प्राप्त करने के लिए
असफलता या उच्च अंक प्राप्त न कर पाने का एक प्रमुख कारण यह भी हो सकता है कि उम्‍मीदवार परीक्षा के समय पर्याप्त रूप से सतर्क नहीं है या परीक्षा के समय उसका मस्तिष्क लगातार दो घंटों के लिए उपयोग करने में सक्षम नहीं होता है। इस क्षमता को विकसित करने की आवश्यकता है कि आप लंबी अवधि के लिए अध्ययन करने का अभ्यास करें और ध्यान रहे कि इसकी पूरी तैयारी करें।

स्‍पीड बढ़ाने में फायदा
जो सभी स्टूडेंट्स मॉक टेस्ट नहीं सिर्फ प्रैक्टिस करते हैं, वे अक्सर टेस्ट में काफ़ी दिक्कतों का सामना करते हैं। जैसे कि उन्हें टेस्ट के बारे में ज़्यादा जानकारी नहीं होती और वे टेस्ट देते समय बेकार की परेशानी में अपना कीमती समय गवां देते हैं। जबकि जो स्टूडेंट्स काफ़ी मात्रा में मॉक टेस्ट से तैयारी करते है उनकी पेपर सोल्व करने की स्पीड बढती हैं। वे कम से कम समय में ज़्यादा प्रशन सोल्व करना सीख जाते हैं जिससे वे अपना पूरा पेपर दिए गए समय में कर लेते हैं, और साथ ही उन्हें हर विषय से प्रश्‍न सोल्व करने की जानकारी होती हैं इसलिए उनके सभी उत्तर सही होने की संभावना बढ़ जाती हैं।

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News