Jamia, JNU Admission 2021: कोरोना काल में एंट्रेंस एग्जाम्स होंगे या नहीं, जामिया और जेएनयू ने बताया प्लान

हाइलाइट्स:

  • 12वीं बोर्ड पर फैसले के बाद यूजी एडमिशन की होड़
  • जामिया और जेएनयू ने दी एडमिशन व प्रवेश परीक्षा की जानकारी
  • बदला जा सकता है एकेडेमिक कैलेंडर

University Entrance Exams 2021: 12वीं बोर्ड परीक्षाएं रद्द होने के बाद अब विश्वविद्यालयों में एडमिशन की बारी है। लेकिन कोविड महामारी (Covid 19) के कारण एंट्रेंस एग्जाम्स को लेकर सवाल उठ रहे हैं। वहीं, डीयू (Delhi University) के बाद देश की अन्य दो बड़ी यूनिवर्सिटीज़ जामिया मिल्लिया इस्लामिया (Jamia Miillia Islamia) और जेएनयू (JNU) ने इस बारे में अपना रुख साफ कर दिया है। जानें जामिया और जेएनयू का इस बारे में क्या प्लान है…

जामिया मिल्लिया (JMI) ने 22 जून 2021 को प्रवेश परीक्षा कराने की बात कही है। हालांकि जामिया के जनसंपर्क अधिकारी (PRO) अहमद अज़ीम का कहना है कि यह संभावित तिथि है। कोरोना के हालात और दिल्ली में लॉकडाउन (Delhi Lockdown) के मद्देनजर एंट्रेंस एग्जाम डेट बदली भी जा सकती है। उन्होंने कहा कि ‘हम सीबीएसई के मार्क्स (CBSE 12th Marks) पर निर्भर नहीं रहते। हमारा अपना एंट्रेंस एग्जाम है, जहां एलिजिबिलिटी अक्सर 50% से कम ही रहती है।’

ये भी पढ़ें : JEE, NEET 2021: 12वीं बोर्ड के बाद अब जेईई मेन और नीट की बारी, सरकार ने दिया ये अपडेट

जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (JNU) के कुलपति एम जगदीश कुमार ने भी जेएनयू एंट्रेंस एग्जाम 2021 (JNU Entrance Exam 2021) को लेकर बयान जारी किया है। उन्होंने कहा कि जेएनयू यूजी एडमिशन (JNU UG Admission) के लिए प्रवेश परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) कराती है। जब भी परिस्थितियां अनुकूल होंगी, यह परीक्षा होगी। इसमें देर हो सकती है।

उन्होंने कहा कि अगर प्रवेश परीक्षा स्थगित होती है और एडमिशंस में देर होती है, तो यूनिवर्सिटी एकेडेमिक कैलेंडर उसी अनुसार तैयार किया जाएगा। एग्जाम व एडमिशन स्थगित होने की प्रक्रिया में समय व्यर्थ होगा, उसका ख्याल भी कैलेंडर में रखा जाएगा।

ये भी पढ़ें : DU admission 2021: 12वीं परीक्षा रद्द, तो दिल्ली यूनिवर्सिटी में इस साल कैसे होंगे एडमिशन, डीयू ने बताया प्लान

साथ ही जेएनयू वीसी ने यह भी कहा कि ‘हम सीबीएसई 12वीं बोर्ड एग्जाम पर केंद्र सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं। महामारी के ऐसे हालात सौ साल में एक बार आते हैं। इस परिस्थिति में स्टूडेंट्स का स्वास्थ्य और सुरक्षा सर्वोपरी है।’ उन्होंने सलाह दी है कि 12वीं के मार्क्स के आधार पर यूजी एडमिशन के लिए यूनिवर्सिटीज़ कोई उचित तरीका तलाश सकती हैं।

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News