Financial Engineering में है बेहतर करियर ऑप्शन, जानें कैसे मिलेगी अच्छी नौकरी

हाइलाइट्स

  • फाइनांशियल इंडस्ट्री में करियर कैसे बनाएं?
  • फाइनेंशियल इंजीनियरिंग के बाद मिलेगी बेहतर नौकरी
  • जानें कौन-से कॉलेज से करें फाइनेंशियल इंजीनियरिंग

Career In Financial Engineering: पिछले कुछ वर्षों में, फाइनांशियल इंडस्ट्री के नेचर में भारी बदलाव आया है और फाइनांस प्रोफेशनल्स की आवश्यकता नए ग्रोथ और ट्रेंड के अनुसार सबसे आगे है। इस कोर्स का मुख्य फोकस रिस्क और क्रेडिट इनवेस्टमेंट में निहित है। यह एक मल्टीडिसिप्लीनरी फील्ड है जिसमें फाइनांशियल एनालिसिस और मॉडलिंग, इंजीनियरिंग टेक्निक्स, मैथमेटिकल टूल्स और सॉफ्टवेयर ट्रेनिंग शामिल है।

फाइनांशियल इंजीनियरिंग
“फाइनांशियल इंजीनियरिंग सेविंग, इनवेस्टमेंट, उधार लेने, उधार देने और रिस्क मैनेजमेंट के बारे में निर्णय लेने के लिए साइंस-बेस्ड मैथेमेटिकल मॉडल का एप्लीकेशन है।” यह वर्णन बोस्टन विश्वविद्यालय के नॉर्मन और एडेल बैरन मैनेजमेंट के प्रोफेसर, प्रो जवी बोडी के अनुसार है। मास्टर इन साइंस या मास्टर्स इन फाइनेंशियल इंजीनियरिंग (एमएफई) आपको नई क्वांटेटिव रोल के लिए तैयार करेगा जैसे कि रिस्क मॉडल और ट्रेडिंग डायरेक्टली, लाइब्रेरी कंट्रोल, मॉडल वैलिडेशन, रिस्क मैनेजमेंट और प्रोग्रामिंग।

फाइनांशियल इंजीनियरिंग का महत्व

  • यह स्टडी का वह फील्ड है जो पोर्टफोलियो के कुल रिस्क का आकलन करके इनवेस्टमेंट में रिस्क को कम करने में मदद करता है।
  • कोर्स फाइनांशियल मार्केट को जरूरतों और चाहतों के मिलान के सरल माध्यमों से अधिक सक्रिय और कुशल बनाने में भी सहायता करता है।
  • कोर्स बिजनेस के प्रोडक्ट और संपत्ति का फाइनेंशियल एनालिसिस देने में मदद करता है।
  • यह कंपनी की स्ट्रैटजी को आगे बढ़ाने में भी मदद करता है।
  • मार्केट के भविष्य के बिहेवियर की भविष्यवाणी और विश्लेषण करने के लिए पाठ्यक्रम रियल टाइम की इकोनॉमिक उत्तेजना भी पैदा करता है।

इसे भी पढ़ें: NEET 2021 Exam: नीट की है तैयारी तो अपनाएं ये टिप्स एंड ट्रिक्स

सब्जेक्ट और कोर्स

  1. अंडरग्रेजुएट कोर्स (UG) – बीटेक फाइनांशियल इंजीनियरिंग
  2. पोस्ट ग्रेजुएट कोर्स (PG) – एमएस इन फाइनांशियल इंजीनियरिंग, एमटेक फाइनांशियल इंजीनियरिंग, एमएस इन कंप्यूटेशनल फाइनांस, एमएस इन मैथेमेटिकल फाइनांस, एमएस इन फाइनांशियल मैथ्मेटिक्स एंड क्वांटेटिव फाइनांस
  3. पीएचडी कोर्स – फाइनांशियल इंजीनियरिंग
  4. सर्टिफिकेशन कोर्स – रिस्क मैनेजमेंट अस्योरेंस, इंफोर्मेशन सिस्टम ऑडिटर, सर्टिफिकेशन इन क्वांटिटिव फाइनांस, मशीन लर्निंग फोर ट्रेडिंगइंट्रेस्ट रेट मॉडल्सरेनफॉर्समेंट लर्निंग इन फाइनांस

फाइनांशियल इंजीनियरिंग में मास्टर्स कराने वाले विश्व के टॉप यूनिव्रसिटी, कॉलेज

  • जॉर्जिया इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया, बर्केले
  • वाशिंगटन यूनिवर्सिटी
  • स्टोनी ब्रुक यूनिवर्सिटी
  • नॉर्थ कैरोलिना स्टेट यूनिवर्सिटी
  • बारूच कॉलेज
  • यूनिवर्सिटी ऑफ कैलिफोर्निया लॉस एंजिल्स
  • मिशिगन यूनिवर्सिटी
  • यूनिवर्सिटी ऑफ इलिनोइस एट अर्बाना-शैंपेन

भारत में टॉप यूनिवर्सिटी

  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी – खड़गपुर
  • क्वांटइंस्टी क्वांटिटेटिव लर्निंग प्राइवेट लिमिटेड, मुंबई
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ क्वांटिटेटिव फाइनांस, मुंबई
  • जीडी गोयनका एजुकेशन सिटी, हरियाणा

इसे भी पढ़ें: Digital Marketing: डिजिटल मार्केटिंग में कैसे बनायें करियर, जानें कहां मिलेगी जॉब, कितनी सैलरी

करियर पाथ
इस क्षेत्र में मास्टर डिग्री प्राप्त करने वाले उम्मीदवार के पास फाइनांस इंडस्ट्री में कैरियर बनाने के विभिन्न ऑप्शंस होते हैं। बड़ी कंपनियों में ये हाई-लेवल पोजीशन में भर्ती किए जाते हैं। फाइनांशियल इंजीनियरिंग करने के इच्छुक कैंडिडेट के पास करियर विकल्प कुछ इस तरह के होते हैं-

  1. एग्जीक्यूशन
  2. फाइनांस रेगुलेशन
  3. कॉरपोरेट फाइनांस
  4. पोर्टफोलियो मैनेजमेंट
  5. ट्रेडिंग
  6. डेरिवेटिव प्राइसिंग
  7. रिस्क मैनेजमेंट
  8. स्ट्रक्चर्ड प्रोडक्ट्स
  9. वैल्यूएशन ऑफ ऑप्शन
  10. मार्केट एनालिस्ट
  11. रिस्क एनालिस्ट

जरूरी स्किल
पायथन, जावा, सी++ और स्काला जैसी भाषाओं में कोडिंग स्पेशलाइजेशन के बेसिक स्किल के अलावा, आपके पास कम्यूनिकेशन और एनालिटिकल स्किल भी होना चाहिए।
कैंडिडेट को लाइनर अल्जेब्रा, स्पेसिअल ज्यामेट्री, स्टोकेस्टिक कैलकुलस और डेफरेंसियल इक्वेशंस की समझ होनी चाहिए।
कैंडिडेट इंडस्ट्री में नवीनतम डेवलपमेंट के साथ बने रहें। कैंडिडेट्स को फ्यूचर फाइनांशियल मॉडल के निर्माण के लिए लगातार पढ़ने, क्रंच करने और सूचनाओं को लागू करने का आदी होना चाहिए।

वेतन
2020 के अनुसार फाइनांशियल इंजीनियरों का औसत वेतन 58 लाख है जबकि एक फाइनांस इंजीनियर का औसत वेतन लगभग 79 लाख प्रति वर्ष है। अगर हम सही गणना करें, तो एक फाइनांस इंजीनियर प्रति घंटे लगभग 11 हजार कमाता है। कुछ आंकड़ों के अनुसार, आप कुछ और वर्षों का अनुभव प्राप्त करने के बाद कहीं भी 1 करोड़ से ढ़ाई करोड़ के बीच कमा सकते हैं। फाइनेंशियल इंजीनियरिंग एक डायनेमिक फील्ड है जिसमें आपको लगातार खुद को अपडेट करते रहना जरूरी है।

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News