CBSE Result 2021 Date: सीबीएसई 10वीं, 12वीं बोर्ड परिणाम की संभावित तारीख घोषित, अधिकारी ने दी ये सूचना

हाइलाइट्स:

  • सीबीएसई 10वीं, 12वीं के नतीजे जल्द।
  • घोषित हो चुका है मार्किंग फॉर्मूला।
  • अधिकारी ने बताई संभावित रिजल्ट डेट।

CBSE 10th, 12th Result 2021 Date: केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) कक्षा 10 और 12वीं के परिणाम (CBSE 10th, 12th Result 2021) घोषित करने की तैयारी कर रहा है। बोर्ड ने कोरोना वायरस (COVID19) के रद्द परीक्षाओं के परिणाम घोषित करने का फॉर्मूला जारी कर दिया है। अब छात्रों को बेसब्री से अपने बोर्ड रिजल्ट (Board Result) जारी होने का इंतजार है, जो जल्द खत्म होने वाला है।

सीबीएसई जुलाई 2021 में दोनों 10वीं और 12वीं कक्षाओं के परिणाम घोषित कर सकता है। उम्मीद की जा रही है कि, बोर्ड 20 जुलाई को कक्षा 10 के परिणाम (CBSE Matric Result) और 31 जुलाई को कक्षा 12 के परिणाम (CBSE Inter Result 2021) घोषित कर सकता है। बोर्ड ने दोनों क्लासे के रिजल्ट जारी करने के लिए अलग-अलग मूल्यांकन फॉर्मूला (CBSE Marking Scheme) जारी कर दी है।

बोर्ड अधिकारी ने दी ये महत्वपूर्ण जानकारी
सीबीएसई परीक्षा नियंत्रक संयम भारद्वाज (Sanyam Bhardwaj) ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बात करते हुए जानकारी दी कि, ‘हमारी कोशिश है कि सीबीएसई के 10वीं के नतीजे 20 जुलाई तक और 12वीं के नतीजे 31 जुलाई तक घोषित कर दिए जाएं, ताकि जो छात्र विदेश में पढ़ाई के लिए जाना चाहते हैं, उन्हें परेशानी न हो।’

कैसे बनेगा कक्षा 10वीं का परिणाम?
10वीं क्लास के नतीजे जारी करने के लिए (CBSE 10th Marking Scheme) बोर्ड ने 10+30+40+20 का फॉर्मूला दिया है। नई इंटरनल असेसमेंट मार्किंग स्कीम को तीन भागों में बांटा गया है- यूनिट टेस्ट, मिड टर्म और प्री बोर्ड। नई मार्किंग स्कीम के 80 नंबर के पेपर में 10 अंक यूनिट टेस्ट, मिड टर्म – 30 अंक और प्री बोर्ड – 40 अंक का होगा। यह सीबीएसई 10 वीं बोर्ड परीक्षा 2021 के लिए छात्रों द्वारा चुने गए 5 मुख्य विषयों की मार्किंग के लिए है। जबकि 20 प्रतिशत अंक सीबीएसई की पुरानी मार्किंग स्कीम यानी इंटरनल असेसमेंट के आधार पर होंगे।

ये भी पढ़ें: CBSE 12th Marking: सीबीएसई ने बताया 12वीं की मार्किंग का फॉर्मूला, यहां समझें कैसे मिलेंगे मार्क्स

कैसे बनेगा कक्षा 12वीं का रिजल्ट?
17 जून को सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट में 12वीं क्लास के लिए इवैल्यूएशन क्राइटेरिया जारी किया था। जिसके मुताबिक, 12वीं के छात्रों को उनके 10वीं और 11वीं में प्राप्त अंकों के आधार पर मार्क्स दिए जाएंगे। इसके अलावा, 12वीं के यूनिट टेस्ट, मिड टर्म और प्री-बोर्ड एग्जाम की परफॉर्मेंस को भी देखा जाएगा। बोर्ड ने 12वीं के लिए 30+30+40 का फॉर्मूला दिया है, जिसमें 10वीं के 30%, 11वीं के 30% और 12वीं के 40% मार्क्स होंगे।

ये भी पढ़ें: RTE Act Rules: शिक्षा का अधिकार अधिनियम में संशोधन, अब छात्रों को मिलेगा ये फायदा

री-एग्जाम ऑप्शन
जो छात्र अपने अंकों से असंतुष्ट होंगे, उन्हें री-एग्जाम के लिए आवेदन करने का मौका दिया जाएगा। ऑफलाइन एग्जाम की डीटेल्स, बोर्ड द्वारा परिस्थितियों की अनुमति के बाद जारी की जाएगी।

ये भी पढ़ें:PM Modi ने लॉन्च किया क्रैश कोर्स, 1 लाख कोविड वॉरियर्स होंगे तैयार, मिलेगी ये सुविधाएं

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News