CBSE 12वीं बोर्ड परीक्षा: परीक्षा को लेकर प्रियंका गांधी ने पोस्ट शेयर कर जाहिर की चिंता, कोरोना के बीच परीक्षा के आयोजन को बताया गलत

  • Hindi News
  • Career
  • CBSE 12th Board 2021 Latest Updates| Priyanka Gandhi Expressed Concern About The Post By Sharing Post, Says It Is Wrong To Conduct Exam Between Corona

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एक दिन पहले

  • कॉपी लिंक

सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन (CBSE) की 12वीं की परीक्षा को लेकर केंद्रीय शिक्षा मंत्री की हाई लेवल मीटिंग शुरू हो चुकी है। बैठक की अध्यक्षता रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह कर रहे हैं। वहीं, इस बीच कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर 12वीं बोर्ड परीक्षा पर अपनी चिंता व्यक्त की है।

प्रियंका गांधी ने लिखा कि बच्चे कोरोना महामारी की वजह से पहले से ही बहुत परेशान हैं, ऐसे में उनसे यह अपेक्षा करना कि वह इतने घंटों तक मास्क और अन्य सुरक्षा कवच पहनकर परीक्षा में बैठें, यह असंवेदनशील और अनुचित है।

आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर तैयार हो परिणाम- मनीष सिसोदिया

12वीं की परीक्षा को लेकर दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कई स्टूडेंट्स और पेरेंट्स के साथ बैठक कर सुझाव मांगे थे। बैठक के बाद सिसोदिया ने बताया कि स्टूडेंट्स और पेरेंट्स के मुताबिक बोर्ड परीक्षा रद्द कर देनी चाहिए। मौजूदा समय में जब बच्चों के लिए कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध नहीं है, ऐसे में कोई भी परीक्षा आयोजित करने से कैंडिडेट्स और टीचर्स को संक्रमण होने का खतरा है। ऐसे में आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर फाइनल रिजल्ट तैयार किया जाना चाहिए।

सिर्फ केवल एक भाषा और तीन इलेक्टिव विषयों की परीक्षा लेने का प्रस्ताव

बोर्ड ने अपने तीसरे प्रस्ताव में 12वीं के पांच/छह विषयों में से सिर्फ एक भाषा और तीन इलेक्टिव विषयों की ही परीक्षा लेने का प्रस्ताव रखा है। जबकि, अन्य विषय यानी पांचवें/छठे विषय का रिजल्ट इलेक्टिव विषयों में प्राप्त अंकों के आधार पर तैयार करने का सुझाव दिया है।

90 मिनट में हल करने होंगे वैकल्पिक प्रश्न

दूसरे प्रस्ताव में सभी विषयों की परीक्षा लेने की बात कही गई है। इसके मुताबिक तीन घंटे की बजाए सिर्फ 90 मिनट की परीक्षा हो और पेपर में वैकल्पिक और छोटे प्रश्न पूछे जाएं। जिससे स्टूडेंट्स को क्वेश्चन पेपर हल करने में ज्यादा समय नहीं लगेगा और वह जल्द-से-जल्द परीक्षा केंद्र से बाहर जा पाएंगे।

कोरोना की वजह से 14 दिन के गैप में होगी परीक्षाएं

बोर्ड ने परीक्षाओं को दो चरणों में आयोजित करने का प्रस्ताव रखा है। जिन जिलों में कोरोना संक्रमण के मामले कम हैं, वहां पहले चरण में परीक्षा का आयोजन होगा। वहीं अन्य जिलों में दूसरे चरण में परीक्षा आयोजित की जाएगी। दोनों चरणों के बीच 14 दिन का गैप रखा जाएगा।

खबरें और भी हैं…

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News