All About Gateway Of India: ये हैं गेटवे ऑफ इंडिया के ऐसे फैक्ट्स, जो कम ही लोग जानते होंगे!

हाइलाइट्स

  • मुंबई का ताजमहल है गेटवे ऑफ इंडिया
  • जानें इससे जुड़े रोचक तथ्य
  • जानें कब हुआ था इसका निर्माण

Gateway Of India In Hindi: देश का इतिहास विश्व के सबसे रोचक इतिहासों में से एक है, यहां पर कई अक्रमणकारियों ने शासन किया और उनके शासन के कारण जहां देश को बहुत कुछ खोना पड़ा तो वहीं कुछ रोचक व विश्व प्रसिद्ध इमारते पाई। भारतीय इतिहास में मुगल वास्तुकला के बाद यूरोपीय वास्तुकला सबसे अधिक देखी जा सकती है जिसका सबसे अच्छा उदाहरण गेटवे ऑफ इंडिया है जिसे 20 वीं शताब्दी के दौरान मुंबई भारत में निर्मित किया गया था। आज हम आपको बताने जा रहे हैं इसके इतिहास के साथ कुछ रोचक तथ्‍य।

गेटवे ऑफ इंडिया का निर्माण 1911 में तब शुरू किया गया जब इंग्लैंड के राजा जॉर्ज पंचम और उनकी पत्नी रानी मेर्री भारत भ्रमण पर आए थे। मुंबई बंदरगाह पर स्मृतिपत्र के रूप में इसका निर्माण वास्तुकार जॉर्ज विटेट ने किया। हालांकि जॉर्ज पंचम और उनकी पत्नी रानी मेर्री ने गेटवे ऑफ़ इंडिया की संरचना का मॉडल ही देख सके क्यूंकि इसका निर्माण 1915 तक शुरू नहीं हुआ था, यह 1924 में बनकर तैयार हुआ। यह गेटवे पीले बेसाल्ट और कंक्रीट के साथ बनाया गया था। गेटवे ऑफ इंडिया का संरचनात्मक डिजाइन 26 मीटर की ऊंचाई के साथ एक बड़े मेहराब के रूप में बनाया गया है।
गेटवे ऑफ इंडिया की स्थापत्य शैली भारत-सरसेनिक शैली में डिज़ाइन की गई है। ग्रैंडियोज़ भवन की संरचना में शामिल मुस्लिम वास्तुशिल्प शैलियों के भी निशान पाए जा सकते है। स्मारक के केंद्रीय गुंबद का व्यास लगभग 48 फीट है, जिसमें 83 फीट की कुल ऊंचाई है।
इसे भी पढ़ें: Explained: ताला बनाने वाले शख्स ने किया था घड़ी का आविष्कार, बड़ी दिलचस्प है ये कहानी

गेटवे ऑफ इंडिया का रोचक तथ्‍य

  1. गेटवे ऑफ इंडिया के गुम्‍बद निर्मित करने में 21 लाख रू का खर्च आया था और पूरे गेटवे ऑफ इंडिया के निर्माण में 2.1 मिलियन की लागत आई थी।
  2. गेटवे पर बाद में छत्रपति शिवाजी और स्वामी विवेकानंद की मूर्तियों को स्थापित किया गया था।
  3. गेटवे ऑफ इंडिया को मुंबई के ताजमहल के रूप में भी जाना जाता है।
  4. मुंबई के कोलाबा में स्थित गेटवे ऑफ इंडिया इंडो. सरसेनिक वास्तुशिल्प का अद्भुत उदाहारण है जिसकी ऊँचाई लगभग आठ मंजिल के समान है।
  5. गेटवे ऑफ़ इंडिया, एलिफैंटा गुफ़ाओं की ओर जाने के लिए एक प्रारंभिक केंद्र है।
  6. ऑफ इंडिया देश में तीन प्रमुख आतंकवादी हमलों का स्थान रहा है जो 2003 और 2008 में मुंबई के ताज महल होटल और अन्य प्रमुख स्थानों पर हुए थे।
  7. आपको बता दे कीएगेटवे ऑफ़ इंडिया आज भी ब्रिटिश औपनिवेशक शासन को दर्शाता एक स्मारकीय निशानी है।
  8. गेटवे विशाल अरब सागर की ओर बनाया गया हैए जो मुम्‍बई शहर के एक अन्‍य आकर्षण मेरिन ड्राइव से जुड़ा है।
  9. यह स्मारक साउथ मुंबई के अपोलो बन्दर क्षेत्र में अरब सागर के बंदरगाह पर स्थित है।
  10. भारत की स्वतंत्रता के पश्चात अंतिम ब्रिटिश सेना इसी में से होकर वापस यूरोप गई थी।

RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News