टीचर्स डे: इन 4 एग्जाम को क्वालिफाई करके बन सकते हैं टीचर, इनकम के साथ भरपूर सम्मान भी दिलाएगा ये पेशा

  • Hindi News
  • Career
  • You Can Become A Teacher By Qualifying These 4 Exams, This Profession Will Bring You A Lot Of Respect Along With Income.

2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

पिछले कुछ सालों के दौरान टीचिंग लाइन में युवाओं की दिलचस्पी लगातार बढ़ रही है। देश के दूर-दराज इलाकों में भी अब स्कूल, कॉलेज और यूनिवर्सिटीज खुल रही हैं जहां नौकरियों की भरमार है। एजुकेशनल सब्जेक्ट के अलावा योग्‍य, फिटनेस, स्पोर्ट्स जैसे फील्ड में प्रोफेशनल टीचर्स की मांग भी लगातार बढ़ती जा रही है। टीचर की सैलरी में कई बदलाव होने के बाद अब शुरुआत में ही अच्छी सैलरी मिलने लगी है। अगर आप भी इस क्षेत्र में अपना करिअर बनाना चाहते हैं तो यहां बताई जानकारी आपके जरूर काम आएगी :

टीचर बनने के लिए जरूरी योग्यता :

  1. भारत में टीचर बनने के लिए बी एड होना जरूरी है। अपनी योग्यता में इजाफा करने के लिए आप एम एड भी कर सकते हैं।
  2. इसके अलावा आप बेसिक ट्रेनिंग सर्टिफिकेट (BTC), डिप्लोमा इन एजुकेशन (D.Ed) या टीचिंग ट्रेनिंग सर्टिफिकेट भी कर सकते हैं।
  3. टीचिंग में सरकारी नौकरी करने की इच्छुक कैंडिडेट्स CBSE की तरफ से आयोजित होने वाले सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट (CTET) में भी शामिल हो सकते हैं।

टीचर बनने के लिए इन एग्‍जाम को क्‍वालिफाई करना है जरूरी

टीजीटी और पीजीटी

यह टेस्ट स्टेट लेवल पर कराया जाता है। मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश और दिल्ली में यह एग्जाम फेमस है। टीजीटी के लिए ग्रेजुएट और बीएड होना जरूरी है और पीजीटी के लिए पोस्ट ग्रेजुएट और बीएड डिग्री होना जरूरी है। टीजीटी पास टीचर 6 से लेकर 10 तक के बच्चों को पढ़ाते हैं पीजीटी पास करने के बाद टीचर सेकेंडरी और सीनियर सेकेंडरी स्टूडेंट्स को पढ़ाते हैं।

टीईटी

देश के कई राज्यों में इस एग्जाम को बीएड और डीएड करने वाले स्टूडेंट्स के लिए कराया जाता है। इस एग्जाम में वे स्टूडेंट भी हिस्सा ले सकते हैं जिनके बीएड का रिजल्ट नहीं आया है। एग्जाम पास करने के बाद राज्य सरकार कुछ निश्चित सालों के लिए एक सर्टिफिकेट देती है। ये समय 5-7 साल का होता है। इस दौरान उम्‍मीदवार टीचर भर्ती के लिए आवेदन कर सकता है।

सीटीईटी

केंद्रीय विद्यालय, दिल्ली के स्कूल, तिब्बती स्कूल और नवोदय विद्यालयों में टीचर बनने के लिए इस एग्जाम को पास करना होता है। ये एग्जाम सीबीएसई की ओर से आयोजित की जाती है जिसमें ग्रेजुएट पास और बीएड डिग्री वाले स्टूडेंट ही हिस्सा ले सकते हैं। इस एग्जाम को पास करने के लिए उन्हें 60 % मार्क्स लाना जरूरी है। एग्जाम पास करने वाले उम्मीदवारों को 7 साल तक मान्य रहने वाला सर्टिफिकेट दिया जाता है।

यूजीसी नेट

कॉलेज में लेक्चरर की नौकरी करने के लिए नेट का एग्जाम निकालना जरूरी है। नेट का पेपर एक साल में 2 बार दिसंबर और जून में होता है। नेट एग्‍जाम में तीन पेपर होते हैं। उम्मीदवार इंग्लिश और हिंदी किसी भी मीडियम से परीक्षा दे सकते हैं।

खबरें और भी हैं…
RELATED ARTICLES

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

Latest News