पिछले साल से 2 प्रतिशत गिरा रिजल्ट: 2020 में 80.59 प्रतिशत सफलता के प्रतिशत को रोक नहीं सका कोरोना, इसबार भी 78.17% पास

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Board Matric Exam Result 2021 Pass Percentage Comparison; BSEB 10th Result 2021 Latest News Updates

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना13 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार विद्यालय परीक्षा समिति की ओर से मैट्रिक का रिजल्ट जारी कर दिया गया है। कोरोना को लेकर बच्चों की एक दिन भी पढ़ाई नहीं हुई। चिंता थी कि इसका असर इसबार के रिजल्ट पर पड़ेगा, लेकिन बिहार के बच्चों ने कोरोना के खौफ को हरा दिया। इसबार 78.17% परीक्षार्थियों ने सफलता का परचम लहराया है। पिछले साल 80.59 प्रतिशत छात्रों ने सफलता का परचम लहराया।

दोगुना ऑब्जेक्टिव प्रश्नों ने बेहतर किया रिजल्ट
कोरोना के कारण इस साल बच्चों की तैयारी अपेक्षा के अनुकूल नहीं हुई थी। इसके बावजूद विद्यार्थियों ने निराश किया। अपना सर्वोत्तम देकर सफलता के ग्राफ को 78.17% तक पहुंचा दिया। दरअसल बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने इसबार 50 नंबर का वैकल्पिक प्रश्न पूछा था, लेकिन बच्चों को विकल्प 100 दिया था। इससे परीक्षा का परिणाम बेहतर हुआ।

बीते पांच वर्षों में मैट्रिक परीक्षा में छात्रों की संख्या और उनके पास होने का प्रतिशत।

बीते पांच वर्षों में मैट्रिक परीक्षा में छात्रों की संख्या और उनके पास होने का प्रतिशत।

तीन साल से रिजल्ट में बढ़त
बिहार बोर्ड के मैट्रिक रिजल्ट में पिछले तीन साल से बढ़त बनी हुई है। वर्ष 2019 में पास होने वाले छात्रों का प्रतिशत 80.73 रहा तो 2020 के मैट्रिक रिजल्ट में 80.59 प्रतिशत छात्र सफल हुए थे। इस साल कोरोना के बावजूद मात्र दो प्रतिशत ही गिरावट हुई है। यह भी 2016, 2017, 2018 की तुलना में अधिकतम 30 प्रतिशत से अधिक बढ़त का प्रदर्शन रहा।

कोरोना के बीच एग्जाम, 40 दिन के भीतर ही रिजल्ट

BSEB ने मैट्रिक की परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। इस बार 78.17 प्रतिशत परीक्षार्थी पास हुए हैं। जमुई की पूजा और रोहतास संदीप टॉपर हुए हैं। टॉप 10 में सिमुलतला के 13 छात्र हैं। इस बार 16.84 लाख परीक्षार्थियों ने मैट्रिक की परीक्षा दी थी। कोरोना के बीच एग्जाम कराना BSEB के लिए बड़ी चुनौती थी, लेकिन 40 दिन के भीतर ही बोर्ड ने रिजल्ट देकर नया इतिहास रच दिया है। मैट्रिक की परीक्षा के लिए प्रदेश में 1525 सेंटर बनाए गए थे, जहां 17 से 24 फरवरी तक परीक्षा हुई थी। इंटरमीडिएट की तरह मैट्रिक परीक्षा में भी परिणाम घोषित करने में हर स्तर से तेजी दिखाई गई।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Latest News